बजट 2024 में इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए सस्ते में खरीदने का बड़ा मौका

SP Yadav
Upcoming EV Cars In India 2024
Highlights
  • इलेक्ट्रिक गाड़ियों में आयात शुल्क में कमी: वित्त मंत्री ने बजट 2023 में इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी पर लगने वाले आयात शुल्क में कमी कर दी है, जिससे इन वाहनों को सस्ते में खरीदने का मौका मिलेगा।
  • लीथियम आयन बैटरी सेल्स को बढ़ावा: बजट के बाद, सरकार ने लीथियम आयन बैटरी पर कस्टम ड्यूटी में कमी की है और सब्सिडी को बढ़ाया है, जिससे देश में इस तकनीकी क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा और लोकल बनी बैटरी सेल्स को उत्कृष्टता में मदद मिलेगी।
  • ईवी सेक्टर में मैन्युफैक्चरिंग क्षमता में वृद्धि: बजट के बाद, इलेक्ट्रिक वाहनों के सेक्टर में इंफ्रास्ट्रक्चर स्टेटस देने से ईवी कंपोनेंट बनाने वाली कंपनियों की लागत में कमी होने की उम्मीद है, जिससे भारत में मैन्युफैक्चरिंग क्षमता में वृद्धि हो सकती है।

बजट 2023 के कारण, इलेक्ट्रिक कार और स्कूटर-बाइक को सस्ते में खरीदने का मौका होगा, क्योंकि वित्त मंत्री ने बजट में इस पर राहत प्रदान की है।

देश में बनने वाले लीथियम आयन बैटरी सेल्स प्लांट अपने निवेश पर अधिक लाभ कमा सकते हैं, जिससे लीथियम आयन बैटरी सेल्स की घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा मिल सकता है।

आने वाले दिनों में इलेक्ट्रिक कार, बाइक, स्कूटर और अन्य इलेक्ट्रिक गाड़ियां सस्ती में होंगी। इस खास घोषणा के बाद, वित्त मंत्री ने इलेक्ट्रिक गाड़ियों में इस्तेमाल होने वाली बैटरी पर आयात शुल्क में कमी की है। लीथियम आयन बैटरी गाड़ी की कीमत पर सीधा असर डालती है और इससे आम लोगों को अपने पसंदीदा इलेक्ट्रिक मॉडल्स को सस्ती में खरीदने का एक अच्छा मौका मिलेगा।

बजट के बाद, सरकार ने लीथियम आयन बैटरी पर कस्टम ड्यूटी को 21 प्रतिशत से घटाकर 13 प्रतिशत कर दिया है और बैटरी पर सब्सिडी को एक साल के लिए बढ़ा दिया है। इससे देश में बनने वाले लीथियम आयन बैटरी सेल्स प्लांट को ज्यादा लाभ होगा और इससे लीथियम आयन बैटरी सेल्स की घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा मिल सकता है।

सरकार द्वारा बजट के बाद, ईवी सेक्टर को इंफ्रास्ट्रक्चर स्टेटस देने के बाद, ईवी कंपोनेंट बनाने वाली कंपनियों की लागत में कमी आने की उम्मीद है और इससे भारत में इस सेक्टर में मैन्युफैक्चरिंग क्षमता में वृद्धि हो सकती है। इससे पुरानी गाड़ियों की स्क्रैपिंग के बाद लोगों का रुझान पेट्रोल-डीजल गाड़ियों से ईवी की तरफ बढ़ सकता है।

इस समय, इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर की बैटरी पर प्रति किलोवाट 15 हजार रुपये तक का इंसेंटिव मिलता है (जो गाड़ी की कीमत के 40% तक हो सकता है)। टू-व्हीलर में बैटरी की साइज लगभग 2 किलोवाट होती है। इसी तरह, थ्री-व्हीलर पर प्रति किलोवाट 10 हजार रुपये (5 किलोवाट साइज), फोर-व्हीलर पर प्रति 10 हजार रुपये (15 किलोवाट साइज), और इलेक्ट्रिक बस पर प्रति किलोवाट 20 हजार रुपये (बैटरी साइज 250 kWh होती है) के हिसाब से इंसेंटिव मिलता है।

  1. बजट 2023 में इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं।
  2. इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी पर लगे आयात शुल्क में कमी के कारण, इन गाड़ियों की कीमत में कमी हो सकती है।
  3. लीथियम आयन बैटरी सेल्स के लिए बजट ने अधिक रिटर्न हासिल करने का मार्ग प्रदान किया है।
  4. बजट के बाद, लीथियम आयन बैटरी पर कस्टम ड्यूटी में कमी होने से स्थानीय निर्मित बैटरी सेल्स को प्रोत्साहित किया जा रहा है।
  5. इलेक्ट्रिक गाड़ियों की सुप्लाई बढ़ाने और आम लोगों को सस्ते में इन्हें खरीदने का लक्ष्य है।
  6. इन नए निर्णयों के बाद, इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग बढ़ सकता है और यह पर्यावरण के लिए भी अच्छा है।
  7. बजट ने ईवी सेक्टर में मैन्युफैक्चरिंग क्षमता में वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए अग्रसर किया है।
  8. पुरानी गाड़ियों की स्क्रैपिंग के बाद लोग इलेक्ट्रिक गाड़ियों की ओर बढ़ सकते हैं, इससे पेट्रोल-डीजल गाड़ियों के प्रति रुज़ान में वृद्धि हो सकती है।
  9. इलेक्ट्रिक वाहनों की बैटरी पर इंसेंटिव मिलने से उपयोगकर्ताओं को आर्थिक सहारा मिलेगा।
  10. बजट ने इंफ्रास्ट्रक्चर और कंपोनेंट बनाने वाली कंपनियों के लिए एक बड़ा कदम उठाया है।
  11. इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने से देश में ग्रीन मोबिलिटी पर ध्यान केंद्रित हो रहा है।
  12. इस बजट से इलेक्ट्रिक गाड़ियों को बढ़ावा मिलने से कंपनियों की लागत में कमी होने की उम्मीद है।
  13. इलेक्ट्रिक गाड़ियों की साइज और इंजन में कमी के बावजूद, इन्हें खरीदना अब और भी सुविधाजनक हो सकेगा।
  14. बजट ने उद्यमिता को बढ़ावा देने और नई तकनीक को प्रोत्साहित करने के लिए एक उच्च मानक स्थापित किया है।
  15. इन नए निर्णयों से विशेषकर युवा पीढ़ी को नए और साथिकी गाड़ियों की दिशा में बढ़ती रूचि हो सकती है।
  16. इस बजट से उद्योग में नई रोजगार की उम्मीद है, क्योंकि इलेक्ट्रिक वाहनों का उत्पादन बढ़ सकता है।
  17. बजट ने गैसोलीन और डीजल की तुलना में ईवी गाड़ियों को अधिक लोकप्रिय बनाने का प्रयास किया है।
  18. इन नए निर्णयों से इलेक्ट्रिक गाड़ियों का उपयोग बढ़ाने से प्रदूषण में भी कमी हो सकती है।
  19. इस बजट से बिजली वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन्स की बढ़ती आवश्यकता का ध्यान रखा जा रहा है।
  20. बजट ने इलेक्ट्रिक गाड़ियों के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकारी सहारा प्रदान किया है।
  21. बजट ने इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए सेल्स और विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए नए निर्णय लिए हैं।
  22. इस बजट से ईवी टेक्नोलॉजी में नई और उन्नतियों को लेकर राष्ट्रीय उत्कृष्टता की दिशा में कदम बढ़ाया गया है।
  23. इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए इंसेंटिव्स से युवा पीढ़ी को उत्साहित करने का प्रयास किया जा रहा है।
  24. इन निर्णयों के बाद, इंडियन ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव आ सकता है।
  25. इस बजट से स्थानीय निर्मित बैटरी सेल्स को अधिक बढ़ोतरी की जा सकती है और निर्यात में भी वृद्धि हो सकती है।
  26. बजट ने ईवी गाड़ियों को बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर से संबोधित करने के लिए विशेष सुविधाएं प्रदान की हैं।
  27. इस बजट से ईवी गाड़ियों की बैटरी पर लगे आयात शुल्क में कमी के पर्यावरणीय लाभों की प्रतिपुष्टि की जा रही है।
  28. इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी स्वच्छ ऊर्जा के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, जो बजट ने बढ़ाई है।
  29. बजट 2024 ने वित्तीय समर्थन के माध्यम से लोगों को इलेक्ट्रिक गाड़ियों को अधिक से अधिक अपनाने के लिए प्रेरित किया है।
  30. बजट ने इलेक्ट्रिक गाड़ियों की व्यापक प्रसार को बढ़ावा देने के लिए समृद्धि प्रदान की है।
Share This Article
Leave a comment
Multipex