Fame India Scheme क्या है?

SP Yadav

फेम का क्या मतलब है?

F. A. M. E = फ़ास्टर अडाप्शन ऑफ मैन्यफैक्चरिंग इलेक्ट्रिक वहइक्लेस इन इंडिया | Faster Adoption of electric vehicles and their manufacturing, इसी उदेश्य को भारत पूरा करना चाहता है और जयदा से जायदा ऑटोमोबाईल मैन्यफैक्चरिंग ऑर्गनिऐएशन को प्रेरित कर के उनको ऑटोमोबाईल सेक्टर मे भविष्य देखना चाहती है।

Contents
फेम का क्या मतलब है?फेम इंडिया फेज 1 कब शुरू हुआ? उसमे सरकार के क्या नियम थे?Fame India Scheme Overview | फेम इंडिया योजना अवलोकनफेम इंडिया की क्या विशेषताएं हैं?फेम इंडिया योजना चरण – II के उद्देश्य। फेम इंडिया योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया (हाउ टू अप्लाइ फॉर फेम इंडिया स्कीम?)डीलरों और ओईएम की सूची कैसे देखें। आपकी स्क्रीन पर ओईएम और डीलर्स की सूची दिखाई देगी।FAQsफेम इंडिया योजना 2021 में प्रोत्साहन क्या है?फेम इंडिया योजना 2021 के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है?फेम इंडिया योजना 2021 का उद्देश्य क्या है?बिना ईंधन के ईवीएस कैसे काम करते हैं?फेम इंडिया स्कीम फेज II के लिए कौन से वाहन उपलब्ध हैं?योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों को क्या प्रोत्साहन दिया जाता है?फेम इंडिया योजना 2021 के लाभार्थी कौन हैं?मैं फेम इंडिया योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों के नवीनतम मॉडल कहां देख सकता हूं?क्या फेम इंडिया मेक इन इंडिया कार्यक्रम का हिस्सा है?फेम इंडिया हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

सरकार ने रुपये के परिव्यय के साथ फेम योजना के दूसरे चरण को मंजूरी दी है। 1 अप्रैल 2019 से शुरू होने वाले 3 वर्षों की अवधि के लिए 10,000 करोड़। कुल बजटीय सहायता में से, लगभग 86 प्रतिशत निधि को मांग प्रोत्साहन के लिए आवंटित किया गया है ताकि देश में EV की मांग पैदा की जा सके। इस चरण का लक्ष्य 7000 ई-बसों, 5 लाख ई-3 व्हीलर, 55000 ई-4 व्हीलर पैसेंजर कारों (स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड सहित) और 10 लाख ई-टू व्हीलर को सपोर्ट करके मांग पैदा करना है। हालांकि, विभिन्न श्रेणी के एक्सईवी के ऑफ-टेक के आधार पर, ये संख्या भिन्न हो सकती है क्योंकि अंतर के साथ-साथ इंट्रा सेगमेंट वार फंगिबिलिटी के लिए प्रावधान किया गया है।योजना के तहत केवल उन्नत बैटरी और पंजीकृत वाहनों को ही प्रोत्साहन दिया जाएगा। जनता के लिए किफायती और पर्यावरण के अनुकूल सार्वजनिक परिवहन विकल्प प्रदान करने पर अधिक जोर देने के साथ, यह योजना मुख्य रूप से सार्वजनिक परिवहन के लिए उपयोग किए जाने वाले वाहनों या ई-3डब्ल्यू, ई-4डब्ल्यू और ई-बस खंडों में वाणिज्यिक उद्देश्यों के लिए पंजीकृत वाहनों पर लागू होगी। हालाँकि, निजी स्वामित्व वाले पंजीकृत e-2W भी इस योजना के तहत एक बड़े खंड के रूप में शामिल हैं।

योजना के तहत केवल उन्नत बैटरी और पंजीकृत वाहनों को ही प्रोत्साहन दिया जाएगा। जनता के लिए किफायती और पर्यावरण के अनुकूल सार्वजनिक परिवहन विकल्प प्रदान करने पर अधिक जोर देने के साथ, यह योजना मुख्य रूप से सार्वजनिक परिवहन के लिए उपयोग किए जाने वाले वाहनों या ई-3डब्ल्यू, ई-4डब्ल्यू और ई-बस खंडों में वाणिज्यिक उद्देश्यों के लिए पंजीकृत वाहनों पर लागू होगी। हालाँकि, निजी स्वामित्व वाले पंजीकृत e-2W भी इस योजना के तहत एक बड़े खंड के रूप में शामिल हैं।

फेम इंडिया फेज 1 कब शुरू हुआ? उसमे सरकार के क्या नियम थे?

मिनिस्ट्री ऑफ Heavy इंडस्ट्रीज़ ने 9 जुलाई 2019 को PIB दिल्ली मे एक लेख लिखा उसमे ये बात लिखी थी कि अब फेम इंडिया को फिर से शुरू करना होगा। फेम इंडिया कि शुरुवात 1 अप्रैल 2015 मे हो चुकी थी और इसका कार्यकाल 2 साल का रखा गया। पर उस समय तक इंडिया मे इलेक्ट्रिक गाड़ियों कि मांग नहीं बढ़ी थी इसलिए ये प्रोग्राम का असर प्रभावित नहीं रहा।

अब जैसा कि आप सब जानते है। पेट्रोल के दाम 100 रूपए से भी जायदा नहीं है। और साथ ही मे इलेक्ट्रिक गाड़ियों कि कीमत कुछ कम हुई है और कई विदेशी कॉम्पनीस ने इंडिया मे अपनी गाड़ियों को लॉन्च करने के आदेश दे दिया है। इसलिए फेम इंडिया के तहत इंडियन अथॉरिटी की मांग है कि इलेक्ट्रिक गाड़ियों को प्रोमोट किया जाए।

Fame India Scheme Overview | फेम इंडिया योजना अवलोकन

Name of the SchemeFAME India Scheme 2021
(National Electric Mobility Mission Plan)
Year of Launching (Phase I)1st April 2015
Year of Launching (Phase II)1st April 2019
CategoryGovernment Scheme
DepartmentDepartment of Heavy Industries
ObjectiveReduce the Air Pollution
Advancement in Environmental Friendly Technology
Official Websitedhi.nic.in

फेम इंडिया की क्या विशेषताएं हैं?

  • योजना का पहला चरण प्रायोगिक चरण था और इसे चार महत्वपूर्ण क्षेत्रों में विभाजित किया गया था।
  • मांग निर्माण।
  • प्रौद्योगिकी मंच।
  • प्रायोगिक परियोजना।
  • चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर।

इस स्कीम के अनुसार विभाग 7000 इलेक्ट्रिक बसों, 5 लाख इलेक्ट्रिक रिक्शा या थ्री व्हीलर्स और 55000 इलेक्ट्रिक फोर व्हीलर्स के साथ 10 लाख इलेक्ट्रिक स्कूटर्स को सपोर्ट करने के लिए चार्जिंग स्टेशन बनाए जाने हैं जो कि एक बहुत बड़ा टास्क है इसलिए माना जा रहा है कि 2025 तक ये लक्ष्य पूरा हो जायगा।

इस योजना के दूसरे चरण के लिए निर्धारित बजट 10,000 करोड़ रुपये है। जनवरी 2021 तक DHI ने देश भर में 3297 चार्जिंग स्टेशनों के अलावा 6690 इलेक्ट्रिक बसों, 3.32 लाख इलेक्ट्रिक वाहनों को मंजूरी दी है। योजना के मांग निर्माण हिस्से को पहले चरण में वाहनों की लागत को कम करके किफायती बनाकर महसूस किया गया था। अधिकारियों ने योजना के चार साल की अवधि में अवलोकन किया कि बिजली के वाहनों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त चार्जिंग स्टेशन नहीं थे। योजना के इस अनुवर्ती चरण में इस मुद्दे को संबोधित किया जा रहा है।

फेम इंडिया योजना चरण – II के उद्देश्य।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य डीजल/पेट्रोल वाहनों को बिजली से चलने वाले वाहनों से बदलकर ईंधन की मांग को कम करना है।

इस स्कीम का प्रमुख उदेश्य डीजल और पेट्रोल कि मांग को कम करना है और बदती जनसंख्या के साथ परिवहन कि आवश्यकता को भी पूरा करना जरूरी है। इसका मतलब कि जैसे जैसे इलेक्ट्रिक वाहनों कि डिमैन्ड पूरी होगी वैसे वैसे प्रदूषण को भी हम दूर कर सकते हैं।

इसको कहते हैं, एक तीर से दो शिकार।

  • इस योजना का उदेश्य है कि ईंधन कम खर्च होगा और ग्रीन इंडिया को अब और भी ज्यादा ग्रीन आप सब देख सकते हो पर आपको निर्णय लेना होगा आप कौन सा इलेक्ट्रिक वहाँ उसे करना चाहते हो।
  • इस योजना के तहत आप सभी को इलेक्ट्रिक कार्स , स्कूटर्स और बस ये सभी इलेक्ट्रिक गाड़ियों को एक सस्ते दाम पर खरीद सकते हैं।
  • भारी उद्योग विभाग ऑटोमोबाइल विनिर्माण उद्योग के क्षेत्र में वैश्विक नेतृत्व में भारत की कल्पना करता है।
  • DHI ने महानगरीय शहरों में इलेक्ट्रिक टू व्हीलर वाहनों के निजी उपयोग को अधिकतम करने का एक उद्देश्य निर्धारित किया है।
  • इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए अधिक चार्जिंग स्टेशनों का निर्माण भी योजना के प्रमुख उद्देश्यों में से एक है और साथ ही सब्सिडी के माध्यम से सहायता भी है।

फेम इंडिया योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया (हाउ टू अप्लाइ फॉर फेम इंडिया स्कीम?)

फेम इंडिया फेज II के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया योजना से संबंधित स्थानीय प्राधिकरण के माध्यम से है। फेम इंडिया योजना के लिए आवेदन करने की कोई नवीनतम प्रक्रिया नहीं है, लेकिन इच्छुक उम्मीदवार योजना का पूरा ट्रैक रखने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं। तीन साल पुराना कार्यक्रम दोपहिया, तिपहिया या चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों के खरीदारों को दी जाने वाली सब्सिडी पर आधारित है।

डीलरों और ओईएम की सूची कैसे देखें।

भारी उद्योग मंत्रालय के विभाग की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से डीलरों और ओईएम की सूची ऑनलाइन देखने की आसान प्रक्रिया का पालन करते हुए।

  • सबसे पहले भारी मंत्रालय विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं या यहां क्लिक करें।
  • वेबसाइट के मुख्य होम पेज पर स्कीम ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आपको दूसरे पेज पर रीडायरेक्ट किया जाएगा, ओईएम और डीलर्स टैब पर क्लिक करें।

आपकी स्क्रीन पर ओईएम और डीलर्स की सूची दिखाई देगी।

  • डीलर नेटवर्क फाइल की पूरी पीडीएफ फाइल भी होगी और आप फाइल को भविष्य के संदर्भ के लिए भी डाउनलोड कर सकते हैं।
  • फेम इंडिया स्कीम 2021 के तहत मॉडल्स को कैसे देखें?
  • इच्छुक उम्मीदवार भारी उद्योग विभाग के पोर्टल यानी dhi.nic.in के तहत फेम इंडिया योजना के आधिकारिक पेज पर ईवी के पुराने और नवीनतम मॉडल की जांच कर सकते हैं।
  • सबसे पहले भारी उद्योग विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • डैशबोर्ड से स्कीम्स टैब पर क्लिक करें।
  • अब मेनू से मॉडल विकल्प पर क्लिक करें।

आपकी स्क्रीन पर ओईएम और डीलर्स की सूची दिखाई देगी।

डीलर नेटवर्क फाइल की पूरी पीडीएफ फाइल भी होगी और आप फाइल को भविष्य के संदर्भ के लिए भी डाउनलोड कर सकते हैं।

अनुवर्ती पृष्ठ पर आप ईवीएस का नाम, मॉडल संख्या और अन्य विवरण देख सकते हैं।

सबसे पहले आपको भारी उद्योग विभाग की वेबसाइट पर जाना होगा। या बस यहाँ क्लिक करें।
डैशबोर्ड पर आपको फेम II डिपॉजिटरी ऑप्शन दिखाई देगा।

  • उस पर क्लिक करें और आप योजना के डिपॉजिटरी पेज पर रीडायरेक्ट हो जाएंगे।
  • दस्तावेज़ों का शीर्षक, दिनांक और अन्य जानकारी दस्तावेज़ की पीडीएफ़ फ़ाइल के साथ स्क्रीन पर दिखाई जाएगी जिसे आप बाद में डाउनलोड कर सकते हैं।

प्रतिक्रिया और सुझाव कैसे दें?
यदि आपके पास कोई नया अभिनव सुझाव है या सेवा के अनुभव का अपना विवरण देना चाहते हैं तो आप उन्हें निम्नलिखित प्रक्रिया के माध्यम से लिख सकते हैं।

  • सबसे पहले भारी उद्योग विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • होम पेज पर डैशबोर्ड पर कनेक्ट टैब पर क्लिक करें।
  • दो विकल्प अर्थात। प्रतिक्रिया और सुझाव ड्रॉप-डाउन मेनू में दिखाई देंगे।
  • अपनी पसंद के विकल्प पर क्लिक करें।

निम्न पृष्ठ स्क्रीन पर दिखाई देगा।

  • संबंधित अनुभागों में आवश्यक विवरण भरें जैसे:
  • श्रेणी
  • प्रक्रिया
  • उपयोगकर्ता का प्रकार
  • नाम
  • ईमेल पता
  • मोबाइल नंबर
  • संक्षिप्त लेकिन स्पष्ट रूप से वर्णित प्रतिक्रिया या सुझाव लिखें और कैप्चा कोड लिखें।
  • जारी रखें पर क्लिक करें और फिर सुझाव/प्रतिक्रिया सबमिट करें।

FAQs

फेम इंडिया योजना 2021 में प्रोत्साहन क्या है?

फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण में दिया गया प्रोत्साहन ईवी की लागत में कमी के माध्यम से है ताकि वाहन किफायती हो जाए। सब्सिडी के रूप में एक प्रोत्साहन भी है।

फेम इंडिया योजना 2021 के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है?

योजना के लिए आवेदन करने के लिए इच्छुक आवेदकों को पहचान प्रमाण दस्तावेजों और पते के प्रमाण की आवश्यकता होगी।

फेम इंडिया योजना 2021 का उद्देश्य क्या है?

फेम इंडिया योजना इलेक्ट्रिक मोबिलिटी योजना पर राष्ट्रीय मिशन का दूसरा चरण है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल वाहन उद्योग में आगे बढ़ना और ईंधन जलाने से होने वाले प्रदूषण को कम करना है।

बिना ईंधन के ईवीएस कैसे काम करते हैं?

इलेक्ट्रिक वाहन या ईवी ईंधन के बजाय बिजली से चलते हैं। उन्हें अपनी बैटरी को चलाने के लिए चार्ज करने के लिए केवल चार्जिंग स्टेशनों की आवश्यकता होती है।

फेम इंडिया स्कीम फेज II के लिए कौन से वाहन उपलब्ध हैं?

योजना के तहत दोपहिया वाहन, तिपहिया वाहन और चार पहिया वाहन उपलब्ध हैं। इस योजना के तहत नवीनतम चार पहिया वाहन इलेक्ट्रिक बस और इलेक्ट्रिक कार हैं।

योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों को क्या प्रोत्साहन दिया जाता है?

इस योजना के तहत दिया जाने वाला प्रोत्साहन ग्राहकों के लिए एक किफायती मूल्य सीमा और इसके साथ प्रदान की जाने वाली अतिरिक्त सब्सिडी के रूप में है।

फेम इंडिया योजना 2021 के लाभार्थी कौन हैं?

योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों को योजना से संबंधित स्थानीय अधिकारियों के साथ खुद को पंजीकृत करने की आवश्यकता है।

मैं फेम इंडिया योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों के नवीनतम मॉडल कहां देख सकता हूं?

इच्छुक उम्मीदवारों को आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा और योजना टैब पर क्लिक करना होगा, फिर उन्हें मेनू से एक मॉडल विकल्प चुनना होगा। नए और पुराने मॉडल की पूरी सूची स्क्रीन पर दिखाई देगी।

क्या फेम इंडिया मेक इन इंडिया कार्यक्रम का हिस्सा है?

हां, इस योजना के बुनियादी मूल तत्व मेक इन इंडिया योजना के हैं। इस योजना का उद्देश्य भारतीय ऑटोमोटिव उद्योग को अग्रणी बनाना है।

फेम इंडिया हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

यदि किसी आवेदक के पास FAME India योजना के संबंध में कोई प्रश्न या शिकायत है तो वे अपने आधिकारिक ई-मेल पते Fame.India@gov.in के माध्यम से अधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं।
हेल्पलाइन कार्यकारी को कॉल करने के लिए: 011-2303633, 23061854, 011-23063733
फैक्स नंबर – 23062633

Share This Article
Leave a comment
Multipex