FAME-II सब्सिडी क्या है? FAME 2 Subsidy

SP Yadav

FAME 2 सब्सिडी एक सरकारी पहल है जिसका उद्देश्य भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों (EVs) को अपनाने को प्रोत्साहित करना है। FAME का मतलब फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ हाइब्रिड एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स है। FAME 2 इस पहल का दूसरा चरण है, जिसे अप्रैल में लॉन्च किया गया था 2019 और मार्च 2024 तक चलने वाला है।

FAME 2 के तहत, सरकार EVs के खरीदारों को उनकी अग्रिम लागत कम करने और उन्हें अधिक किफायती बनाने के लिए वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करती है। यह योजना इलेक्ट्रिक दोपहिया, तिपहिया और चौपहिया वाहनों की खरीद पर सब्सिडी प्रदान करती है। चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की स्थापना।

FAME 2 सब्सिडी के पात्र होने के लिए, EV निर्माताओं को कुछ मानदंडों का पालन करना चाहिए, जैसे EV घटकों के उत्पादन का स्थानीयकरण, उन्नत बैटरी तकनीक का उपयोग करना, और भारत में EVs के लिए एक सहायक पारिस्थितिकी तंत्र के कुछ सुरक्षा मानकों को पूरा करना।

FAME 2 सब्सिडी को भारी उद्योग विभाग (DHI) द्वारा प्रशासित किया जाता है और इसे भारत सरकार के राष्ट्रीय विद्युत गतिशीलता मिशन योजना (NEMMP) द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। इस योजना का कुल बजट 10,000 करोड़ रुपये है, और सब्सिडी राशि EV के प्रकार और बैटरी क्षमता के आधार पर भिन्न होता है।

वित्तीय प्रोत्साहनों के अलावा, फेम 2 में भारत में ईवी को अपनाने और जागरूकता को बढ़ावा देने के उपाय भी शामिल हैं, जैसे कि सार्वजनिक चार्जिंग अवसंरचना और बैटरी स्वैपिंग सुविधाएं, परिवहन के लिए व्यवहार्य और टिकाऊ विकल्प।

फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (FAME 2) योजना भारत सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई है। FAME 2 सब्सिडी योजना की अवधि को अब 31 मार्च 2024 तक बढ़ा दिया गया है।

फेम 2 सब्सिडी क्या है? (What does the FAME II subsidy entail?)

फेम 2 सब्सिडी एक भारत सरकार द्वारा शुरू की गई योजना है जो देश में इलेक्ट्रिक वाहनों (EVs) के उत्पादन और उनके उपयोग को बढ़ावा देने के लिए बनाई गई है। इस योजना के तहत, FAME 2 सब्सिडी योजना ईवी के निर्माताओं और खरीदारों को सब्सिडी प्रदान करती है ताकि वे उन्हें आम जनता के लिए अधिक किफायती और सुलभ बनाएं। इस योजना को नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया (NITI) Aayog के समर्थन से भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित और मॉनिटर किया जाता है। यह योजना राष्ट्रीय मोटर वाहन बोर्ड (एनएबी) के माध्यम से वित्त पोषित है।

यह योजना अप्रैल 2019 में शुरू की गई थी और इसकी प्रारंभिक सब्सिडी राशि ₹10,000 प्रति kWh थी। जून 2021 में, योजना को संशोधित करके सरकार ने इस योजना के अंतर्गत सब्सिडी को 50% अधिक देने का फैसला किया था और सब्सिडी प्रोत्साहन को 10000 रुपये प्रति kWh से बढ़ाकर 15000 रुपये प्रति kWh कर दिया गया था। इसके अलावा, यह योजना वाहन लागत का अधिकतम 40% सब्सिडी प्रदान करती है।

फेम 2 सब्सिडी योजना एक सरकारी योजना है जो भारत में विद्युतीय गाड़ियों के विकास और लोकप्रियता को बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू की गई है। इस योजना के अंतर्गत, सरकार ने बैटरी संचार इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए वित्तीय सहायता देती है। इस योजना के तहत, विद्युतीय गाड़ियों को खरीदने वालों को सब्सिडी की भी प्रदान की जाती है। फेम 2 सब्सिडी योजना के अंतर्गत, बैटरी संचार इंफ्रास्ट्रक्चर की विकास और ग्रीन मॉबिलिटी को बढ़ावा दिया जाता है।

FAME 2 subsidy योजना के क्या उद्देश्य तय किए गए है?:

FAME 2 subsidy योजना का मुख्य उद्देश्य भारत सरकार द्वारा निर्धारित “नीति शिरोमणि” के तहत शुरू की गई स्क्रैप पेज वाहनों को बदलने के लिए बैटरी संचालित वाहनों को प्रोत्साहित करना है। इस योजना के माध्यम से, सरकार के द्वारा बैटरी संचालित वाहनों के निर्माण और उपयोग को बढ़ावा दिया जाता है ताकि देश में प्रदूषण और ऊर्जा संकट से निपटने में सहायता मिल सके। इसके साथ ही विभिन्न विकसित विकल्पों के विकास, और बैटरी संचालित वाहनों की बेचैन चालकों के लिए वित्तीय समर्थन उपलब्ध कराना भी योजना का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य है।

कुल मिलाकर, FAME 2 योजना भारत सरकार के स्वच्छ ऊर्जा के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करती है। यह भारत में ग्रीन मॉबिलिटी को प्रोत्साहित करने, पर्यावरण के साथ साथ ऊर्जा सुरक्षा भी बढ़ाने का एक प्रभावी उपाय है। यह भी उद्देश्य है कि भारत भ्रमण संबंधी बाह्य आधारित तेल की आवश्यकता को कम करें और स्थानिक ऊर्जा संसाधनों का उपयोग बढ़ाएं।

FAME 2 सब्सिडी के लिए पात्रता मानदंड: (FAME 2 सब्सिडी किसे प्राप्त हो सकती है?)

FAME 2 सब्सिडी के लिए निम्नलिखित मापदंड होने चाहिए:

  1. इलेक्ट्रिक वाहन निर्माता/वितरक
  2. इलेक्ट्रिक बसों और ट्रकों के लिए पंजीकृत परिवहन आवासीय प्रदाता
  3. इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए वितरित चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के मालिक/प्रबंधक

इसके अलावा, सब्सिडी उपलब्ध कराने के लिए इन मापदंडों को पूरा करना होगा:

  1. वाहनों की कार्यक्षमता कम से कम 80 किलोमीटर प्रति चार्ज और बिना ऑन-बोर्ड जनरेशन के होनी चाहिए।
  2. वाहनों को अधिकतम 3 साल की वारंटी और सेवा सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए।
  3. इलेक्ट्रिक वाहनों को भारत में निर्मित होना चाहिए।

वाहनों के लिए अधिकतम सब्सिडी राशि की सीमा ₹15,000 प्रति kWh तय की गई है और इलेक्ट्रिक बसों के लिए 50% से अधिक अधिकतम सब्सिडी दी जाएगी।

फेम 2 अनुदान के लाभार्थी होने के लिए, सरकार द्वारा निर्धारित कुछ तकनीकी मानकों और विशिष्टताओं का पालन करना आवश्यक होता है। इन मानकों में सीमा, शीर्ष गति और बैटरी क्षमता शामिल होती है। वाहन का प्रकार बहुत महत्वपूर्ण है और फेम 2 अनुदान के लिए केवल इलेक्ट्रिक वाहनों को पात्र माना जाता है। इसके अलावा, वाहन की न्यूनतम बैटरी क्षमता 2 किलोवॉट-घंटा (kWh) होनी चाहिए। फेम 2 अनुदान के लिए उत्पादक कंपनी को भी सरकार द्वारा मंजूरी देनी होती है और उसे भारी उद्योग विभाग (डीएचआई) के साथ पंजीकृत होना चाहिए। फेम 2 अनुदान के लिए अधिकतम मूल्य सीमा भी होती है और वाहन के प्रकार के आधार पर भिन्न होती है। दोपहिया वाहनों के लिए अधिकतम मूल्य सीमा रु. 1.5 लाख है, जबकि तिपहिया वाहनों के लिए यह सीमा रु. 5 लाख है। चार-पहिया वाहनों के लिए अधिकतम मूल्य सीमा रु. 10 लाख है।

आवासीय स्थिति: FAME II सब्सिडी के पात्र होने के लिए, इलेक्ट्रिक वाहन को सड़क पर आवासीय उपयोग के लिए निर्मित किया जाना चाहिए। यह अर्थ है कि केवल वह वाहन सब्सिडी पात्र होगा जो घरेलू उपयोग के लिए बनाया गया है, जैसे कि कार, स्कूटर, बस और वैन। वाहन को निर्माण के समय संबंधित नियामक प्राधिकरण द्वारा आवासीय उपयोग के लिए प्रमाणित किया जाना चाहिए।

FAME 2 सब्सिडी के लिए आवेदन करने के लिए आप नीचे दिए गए चरणों का पालन कर सकते हैं:

फेम 2 सब्सिडी के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

  1. आवेदन प्रक्रिया शुरू करें: आपको अपनी निकटतम ऑटोमोबाइल डीलर या निर्माता से संपर्क करना होगा और फेम 2 सब्सिडी के लिए आवेदन करने के बारे में पूछना होगा। आप आवेदन फॉर्म भरने और सभी आवश्यक दस्तावेज़ जमा करने के लिए भी पूछा जा सकता है।
  2. वाहन का चयन करें: आपको एक ऑटोमोबाइल चुनना होगा जो फेम 2 सब्सिडी के लिए पात्र है। फेम 2 सब्सिडी उन वाहनों के लिए उपलब्ध है जो इलेक्ट्रिक या हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन होते हैं और भारत स्टैंडर्ड या भारतीय नागरिकता नियमों को पूरा करते हैं।
  3. डीलर या निर्माता से बातचीत करें: एक बार जब आप वाहन का चयन कर लेते हैं, तो आप अपने डीलर या निर्माता से बातचीत कर सकते हैं और वहाँ से आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  4. ऐसे इलेक्ट्रिक वाहन की पहचान करें जो FAME 2 सब्सिडी के लिए पात्र हो।
  5. FAME 2 योजना के तहत पंजीकृत डीलर से वाहन खरीदें।
  6. सुनिश्चित करें कि वाहन स्थानीय क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) के साथ पंजीकृत है।
  7. डीलर से संपर्क करें और FAME 2 सब्सिडी का दावा करने के लिए आवश्यक दस्तावेज मांगें।
  8. डीलर द्वारा प्रदान किया गया सब्सिडी आवेदन पत्र भरें।
  9. डीलर को आवश्यक दस्तावेजों के साथ पूरा फॉर्म जमा करें।
  10. इसके बाद डीलर संबंधित अधिकारी को आवेदन अग्रेषित करेगा।
  11. आवेदन स्वीकृत होने के बाद, सब्सिडी राशि आपके बैंक खाते में जमा कर दी जाएगी।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि राज्य और विशिष्ट वाहन मॉडल के आधार पर सटीक प्रक्रिया भिन्न हो सकती है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक FAME 2 वेबसाइट देखें और मार्गदर्शन के लिए डीलर से परामर्श करें।

FAME 2 योजना के तहत प्रदान की जाने वाली सब्सिडी की राशि कितनी है?

FAME 2 योजना के तहत, वाहन के प्रकार और उसके विनिर्देशों के आधार पर सब्सिडी राशि भिन्न होती है।

इलेक्ट्रिक कारें: इलेक्ट्रिक कारों के लिए, सब्सिडी राशि 10,000 रुपये प्रति kWh बैटरी क्षमता तक है। इलेक्ट्रिक कार के लिए अधिकतम सब्सिडी राशि 1.5 लाख रुपये है।

इलेक्ट्रिक बसें: इलेक्ट्रिक बसों के लिए, सब्सिडी राशि बस की लागत का 40% या 55 लाख रुपये, जो भी कम हो, तक है।

इलेक्ट्रिक दोपहिया: इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों के लिए, सब्सिडी राशि 15,000 रुपये प्रति kWh बैटरी क्षमता तक है। एक इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन के लिए अधिकतम सब्सिडी राशि 30,000 रुपये है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सब्सिडी की राशि समय-समय पर सरकार की नीतियों और बजट आवंटन के आधार पर बदल सकती है।

FAME 2 subsidy योजना के लाभ: (FAME 2 subsidy scheme benefits:)

FAME 2 subsidy योजना के निम्नलिखित लाभ हैं:

  1. सब्सिडी: FAME 2 सब्सिडी योजना के तहत, इलेक्ट्रिक वाहनों पर सब्सिडी उपलब्ध है। इससे ग्राहकों को इलेक्ट्रिक वाहनों की कीमत में कमी मिलती है।
  2. कम कीमत वाले वाहन: FAME 2 योजना के अंतर्गत इलेक्ट्रिक वाहनों की कीमत कम होती है। इससे ग्राहकों को इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने में अधिक सुविधा होती है।
  3. पर्यावरण के लिए उपयोगी: FAME 2 योजना के अंतर्गत इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित करने से पर्यावरण के लिए फायदे होते हैं। इन वाहनों का इस्तेमाल करने से प्रदूषण कम होता है और वायु गुणवत्ता सुधरती है।
  4. ईंधन बचत: इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल से ईंधन बचत होती है। इन वाहनों का चार्ज करने के लिए बिजली का इस्तेमाल किया जाता है जो ईंधन की बचत करता है।
  5. देश के लिए उपयोगी: FAME 2 योजना के अंतर्गत इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित करने से देश को फायदा होता है।

EV निर्माताओं के लिए FAME 2 सब्सिडी योजना के लाभ:

  1. ईवी निर्माण इकाइयों की स्थापना और विनिर्माण उपकरण खरीदने के लिए सब्सिडी।
  2. ईवी से संबंधित अनुसंधान और विकास गतिविधियों के लिए वित्तीय सहायता।
  3. ईवी और उनके पुर्जों के निर्माताओं के लिए कर प्रोत्साहन।
  4. EV खरीदारों के लिए FAME 2 सब्सिडी योजना के लाभ:
  5. ईवी के खरीद मूल्य पर सब्सिडी, जो वाहन के प्रकार के आधार पर 10,000 रुपये से लेकर 1.5 लाख रुपये तक हो सकती है।
  6. ईवी खरीदारों के लिए कर लाभ।
  7. विशिष्ट चार्जिंग अवसंरचना और सुविधाओं तक पहुंच।

यहां बताया गया है कि FAME 2 subsidy योजना भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। इस योजना के माध्यम से, सरकार निर्माताओं और खरीदारों दोनों को सब्सिडी और प्रोत्साहन प्रदान करती है ताकि इलेक्ट्रिक वाहनों को आम जनता के लिए अधिक सुलभ और सस्ता बनाया जा सके। इससे जीवाश्म ईंधन पर भारत की निर्भरता कम होगी, उत्सर्जन के हानिकारक प्रभावों को कम करने में मदद मिलेगी, और टिकाऊ परिवहन को बढ़ावा मिलेगा। इस योजना के माध्यम से संचार के लिए एक स्वच्छ और ग्रीन विकल्प प्रदान किया जा सकता है जो देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में सक्षम होगा।

Share This Article
Leave a comment
Multipex